देख के काफिरो को मेरा खून खोलता है |

 देख के काफिरो को मेरा खून खोलता है |

मेरा अपना ही कोई अपनो मे जहर घोलता है |

उसको मार दू या खूद मिट जाऊ |

मेरे खून का कतरा – कतरा इंकलाब बोलता है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *