तलब ऐसी कि सांसों में समा लूं तुम्हें.

तलब ऐसी कि सांसों में समा लूं तुम्हें…
और किस्मत ऐसी कि देखने को भी मोहताज हूँ मैं..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *