यूँ जो गरज रहे हैं हिज़्र के बादल,

यूँ जो गरज रहे हैं हिज़्र के बादल,

लगता है फिर तेरी यादों की बरसात होने वाली है।
✍️🏻

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *