जीने की लत पड़ी नहीं…

जीने की लत पड़ी नहीं… शायद इसीलिए…
झूठी तसल्लियों पे… गुज़ारा नहीं किया…!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *