हालातो का असर है या मौसम बदल रहा है

आज वो सक्स मुझे धुंधला – धुंधला सा लग रहा है /

हालातो का असर है या मौसम बदल रहा है //

कहते हो मेरा जिक्र भी नही है शबे महफिल मे /

फिर मेरे ही नाम से ये शोर क्यो चल रहा है //

मुझे भूल जाने की हसरत है या मुझे मिटाना चाहाता है /

जरा मुझे भी तो खबर हो के तेरे जहन मे क्या चल रहा है //

गर बेताब है दिल गुमा निकालने को /

मेरी भी तो आरजू होगी मेरा भी तो मन मचल रहा है //

आग तेरे गांव मे फैलगयी तो हैरानी कैसी “गौरव” /

जरा बाहर निकल के देख आज तो पुरा आंशिया जल रहा है //

मुझे खबर है तेरे शहर मे सब समुन्द्र सुख गये /

जब तु प्यासा है तो तेरी आंखो से पानी क्यू निकल रहा है /

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *