मेरे हर बार… गले लगने को चाहत न समझ…

मेरे हर बार… गले लगने को चाहत न समझ…
आदमी थक के भी… दीवार से जा लगता है…!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *