कहीं-कहीं से हर चेहरा तुम जैसा लगता है.!

कहीं-कहीं से हर चेहरा तुम जैसा लगता है.
तुम को भूल न पायेंगे हम, ऐसा लगता है.!

और तो सब कुछ ठीक है लेकिन कभी-कभी यूँ ही
चलता-फिरता शहर अचानक तन्हा लगता है.!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *