देशभक्ति शायरी

देशभक्ति शायरी

दोस्तों इस आर्टिकल में आपको सभी तरह की देशभक्ति शायरी , देशभक्ति शायरी हिंदी में , जोश भर देने वाली देशभक्ति शायरी , देशभक्ति शायरी पाकिस्तान के खिलाफ, शायरी देशभक्ति पर , 26 January की देशभक्ति शायरी , 15 अगस्त की देशभक्ति शायरी , देशभक्ति शायरी Status, देशभक्ति शायरी , देशभक्ति शायरी डाउनलोड , देशभक्ति की आग उगलती शायरी वतन शायरी, वतन शायरी , वतन के वास्ते शायरी , वतन से मोहब्बत शायरी , इश्क और वतन शायरी , वतन शायरी उर्दू , शायरी देशभक्ति , वीर योद्धा शायरी, हिंदुस्तान शायरी , वतन शायरी 2 Line , वीरतापूर्ण शायरी , देशभक्ति शेरो शायरी .

देशभक्ति शायरी हिंदी में

ऐ मेरे वतन के लोगों तुम खूब लगा लो नारा,
ये शुभ दिन है हम सब का लहरा लो तिरंगा प्यारा,
पर मत भूलों सीमा पर वीरों ने है प्राण गवाएं,
कुछ याद उन्हें भी कर लो जो लौट के फिर न आये…
हम आजाद हैं, ये आजादी कभी छिनने नहीं देंगे
तिरंगे की शान को हम कभी मिटने नहीं देंगे
कोई आंख भी उठाएगा जो हिंदुस्तान की तरफ
उन आंखों को फिर दुबारा दुनिया देखने नहीं देंगे
दुश्मनी के लिए यह याद नहीं रहता,
वतन मेरा दोस्ती पर कुर्बान है,
नफरत पाले कोई उड़ान नहीं भरता,
दिलों में चाहत ही मेरे वतन की शान है…
खुशनसीब हैं जो वतन पर कुर्बान हुए,
जो तिरंगे में लिपट जिंदगी से आजाद हुए,
मर कर भी अमर हो गए वो,
साधारण मनुष्य से शहीद की शहादत हो गए वो…
वतन हैं मेरा सबसे महान
प्रेम सोहाद्र का दूजा नाम,
वतन-ए-आबरू पर है हम सब कुर्बान,
शान्ति का दूत है मेरा हिन्दुस्तान…
मोक्ष पाकर स्वर्ग में रखा क्या है,
जीवन सुख तो मातृभूमि की धरा पर है,
तिरंगा कफन बन जाये इस जन्म में,
तो इससे बाद सौभाग्य क्या है?
आजाद भारत के लाल है हम,
आज शहीदों को सलाम करते है,
युवा देश की शान है हम,
अखंड भारत का संकल्प करते है…
कीमत करो शहीदों की,
वो देश पर कुर्बान हुए,
सिर्फ दो दिनों की मोहताज नहीं है देश भक्ति,
नागरिकों की एकता ही है देश की असल शक्ति…

शायरी देशभक्ति पर

धर्म न हिन्दू का है ना मुसलमान का,
धर्म तो बस इंसानियत का है,
ये भूख से बिलकते बच्चो से पूछों.
सच क्या है झूट क्या है,
किसी मंदिर या मस्जिद से नहीं,
बेगुनाह बच्चो की मौत पर किसी माँ से पूछो,
देश का सपूत बनना है तो कर्तव्य को जानो,
अधिकार की बात न करों देश के लिए जीवन न्योछावर करो.
मोहब्बत का दूसरा नाम है मेरा देश,
अनेकों में एकता का प्रतीक है मेरा देश,
चाँद गैरों की सुनना मुझे गंवारा नहीं,
हिन्दू मुस्लिम सभी कला प्यारा है मेरा देश..
तिरंगा हमारा शान-ए-जिंदगी,
वतन परस्ती हैं वफा-ए-जमीं,
देश के मर मिटना काबुल है हमें,
अखंड भारत के स्वपन का जुनून हैं हमें…
जहां प्रेम की भाषा है सर्वोपरी,
जहां धर्म की आशा है सर्वोपरि,
ऐसा है मेरा देश हिंदुस्तान जहां,
देश भक्ति की भावना है सर्वोपरी.
भले हाथो में खनके,
छन छन करते पायल झुमके,
पर देश की हैं हम प्रचंड नारी,
वक्त पर उठाएंगे तलवारे भारी से भारी.
कर जज्बे को बुलंद जवान ,
तेरे पीछे खड़ी आवाम,
हर पत्ते को मार गिरएंगे
जो हमसे देश बंटवाएंगे.
खुशनसीब होते है वो लोग, जो इस देश पर कुर्बान होते है,
जान गवां कर भी वो लोग अमर हो जाते है,
करते हैं सलाम उन देश प्रेमियों को,
जिनके कारण इस तिरंगे का मान होता है.
ना हिन्दू बन कर देखो,
ना मुस्लिम बन कर देखो,
बेटों की इस लड़ाई में,
दुःख भरी भारत माँ को देखो.

शायरी देशभक्ति

भारत की पहचान ,जम्मू की जान है हम, सरहद का अरमान है हमी मे,
भारत का दिल तो हैं ही, साथ में भारत माता के लिए मरने का जज्बा भी है हमी मे…
वो शमा जो काम आये अंजुमन के लिए,
वो जज्बा हो जो कुर्बान हो जाये अपने वतन के लिए,
रखते हैं हम वो होंसले भी जो मर मिटे हिंदुस्तान के लिए
रखते हैं हम वो होंसले भी जो मर मिटे हिंदुस्तान के लिए|
गंगा यमुना यहाँ नर्मदा,
मंदिर मस्जिद के संग गिरजा,
शांति प्रेम की देता शिक्षा,
मेरा भारत सदा सर्वदा..!!
दे सलामी इस तिरंगे को
जिस से तेरी शान हैं,
सर हमेशा ऊँचा रखना इसका
जब तक दिल में जान हैं..!!
मुकम्मल है इबादत और मैं वतन ईमान रखता हूँ,
वतन के शान की खातिर हथेली पे जान रखता हूँ !!
क्यु पढ़ते हो मेरी आँखों में नक्शा पाकिस्तान का ,
मुस्लमान हूँ मैं सच्चा, दिल में हिंदुस्तान रखता हूँ !!
ज़माने भर में मिलते हैं आशिक कई,
मगर वतन से खूबसूरत कोई सनम नहीं,
नोटों में लिपटकर,सोने में भी सिमट कर मरे हैं कई,
मगर तिरंगे से खूबसूरत कोई कफ़न नहीं।
तन हमारा ऐसा है, की कोई छोड़ पाए न,
रिश्ता हमारा ऐसा है, की कोई तोड़ पायें न,
दिल हमारा एक है, एक हमारी जान हे,
हिंदुस्तान हमारा है और हम इसकी शान हैं..
जिसका ताज हिमालय है,
जहाँ बहती गंगा है,
जहाँ अनेकता में एकता है..
“सत्यमेव जयते जहाँ का नारा है, जहां का मजहब भाईचारा है
और कोई नहीं दोस्तों वो भारत देश
हमारा है…
दे सलामी इस तिरंगे को
जिस से तेरी शान हैं,
सर हमेशा ऊँचा रखना इसका
जब तक दिल में जान हैं..!!
ना हिन्दू बन कर देखो
ना मुस्लिम बन कर देखों
बेटों की इस लड़ाई में
दुःख भरी भारत माँ को देखो |
ज़माने भर में मिलते हे आशिक कई,
मगर वतन से खूबसूरत कोई सनम नहीं होता,
नोटों में भी लिपट कर, सोने में सिमटकर मरे हे कई,
मगर तिरंगे से खूबसूरत कोई कफ़न नहीं होता…
भूल न जाना भारत माँ के सपूतों का बलिदान,
इस दिन के लिए जो हुए थे हंसकर कुर्बान,
आज़ादी की ये खुशियाँ मनाकर लो ये शपथ
की बनायेंगे देश भारत को और भी महान..
गूँज रहा है,दुनिया में भारत का नगाडा..
चमक रहा है,आसमान में देश का सितारा…
आज़ादी के दिन आओ मिलके करें दुआ यही
की बुलंदीयों पर लहराता रहे तिरंगा हमारा…
न मरो अपनी बेवफा सनम के लिये,
दो गज जमीन नही मिलेगी दफ़न होने के लिए,
अगर मरना ही हैं तो मरो अपने वतन के लिए,
हसीना भी ख़ुशी से दुप्पटा उतार देगी तुम्हारे कफ़न के लिए…
वन्दे मातरम, जय हिन्द
क्यों मरते हो यारों सनम बेवफा के लिए,
जो कभी नहीं देगी अपना दुप्पटा तुम्हारे कफन के लिए
मरना है तो मरो अपने वतन के लिए
कम से कम तिरंगा तो मिले जायेगा कफन के लिए…

देशभक्ति शेरो शायरी

चलो फिर से खुद को जगाते है,
अनुसाशन का डंडा फिर घूमाते है,
सुनहरा रंग है गणतंत्र स्वतंत्रता का,
शहीदों के लहू से ऐसे शहीदों को हम सब सर झुकाते है…
संस्कार और संस्कृति की शान मिले ऐसे,
हिन्दू मुस्लिम और हिंदुस्तान मिले ऐसे
हम मिलजुल के रहे ऐसे की
मंदिर में अल्लाह और मस्जिद में राम मिले जैसे…
Happy Independence Day
मेरे देश का मान हमेशा यूँ ही बनाये रखूँगा,
दिल तो क्या जान भी इस पर निछावर कर दूंगा,
अगर मिले एक भी मोका देश के काम आने का
तो बिना कफ़न के ही देश के लिए सो जाऊंगा…
वतन हमारा मिसाल है मोहब्बत की,
तोड़ता है दीवारें नफरत की,
ये मेरी खुश नसीबी है जो मिली जिन्दगी इस चमन में…
और भुला न सके कोई भी इसकी खूशबु सातों जनम में…
आजादी की कभी शाम नही होने देंगे,
शहीदों की क़ुरबानी बदनाम नही होने देंगे,
बची हो जो एक बूंद भी लहू की,
बची हो जो एक बूंद भी लहू की,
तब तक भारत माता का आंचल निलाम नही होंगे देंगे|
इतनी सी बात हवाओं को बताए रखना,
इतनी सी बात हवाओं को बताए रखना,
रौशनी होगी चिरागों को जलाये रखना,
लहू लेकर की है जिसकी हिफ़ाजत हमने,
ऐसे तिरंगे को दिल में हमेशा बसाए रखना|
कुछ नशा तिरंगे की आन का है,
कुछ नशा मातृभूमि की मान का है,
हम लहराएंगे हर जगह इस तिरंगे को,
हम लहराएंगे हर जगह इस तिरंगे को,
ऐसा नशा ही कुछ हिंदुस्तान की शान का हैं||
में भारत वर्ष का हरदम अमिट सम्मान करता हूँ,
यहाँ कि सुनहरी मिट्टी का गुणगान करता हूँ,
मुझे चिंता नही है, स्वर्ग जाकर मोक्ष पाने कि
तिरंगा हो कफ़न मेरा बस यही अरमान रखता हूँ…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *