समेट कर सारे जज़्बात, रख दिये सिरहाने..🧍

समेट कर सारे जज़्बात रख दिये सिरहाने…
थोड़े सुकून के हक़दार हम भी हैं…!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *